donate in donate in

learn. play. act.

Breakthrough

Get our emails!

A global organization building a culture of human rights. Visit us

America 2049

You change america... before it changes you. Play now

Iced

immigrant teen vs. immigration system: can anyone win? Visit

Bell Bajao

ring the bell. bring domestic violence to a halt.Visit

Ring the Bell

make a promise to ring the bell. Visit

#Im Here

For Immigrant Women Visit

Iamthisland

your life in america: write it, shoot it, own it. Visit

Homeland Guantanamos

go undercover to find the truth about immigrant detention. Visit

[Poetry] Nahi Banna Hai Mujhe by Deepika Gupta

           
           

          नहीं बनना है मुझे
          कभी गंगा सी पवित्र
          जिसमे डाल जाओ तुम
          अपने मन चाहे अवशिष्ट
          ना बहना है मुझे
          तुम्हारी काटी हुई
          चट्टानों पर
          मैं बहती आई हूँ
          अपनी बनायीं हुई
          ढलानों पर
          मैं वो धारा नहीं अब
          जिसे बाँध सके कोई
          शंकर अपनी जटाओं में
          मैं सिर्फ प्यास बुझाने का
          एकमात्र साधन नहीं
          हर कोने कोने यहाँ एक गंगा है बसी
          जो अपवित्र होने के लिए ही
          पवित्र हुई
          नहीं बनना है मुझे
          कभी गंगा सी पवित्र
          नहीं करनी है भागीदारी
          मुझे तुम्हारे पापों में
          ना होने दूंगी अपने प्रवाह में
          तुम्हारा अनवांछित
          हस्तछेप !!

           

          - Deepika Gupta
          Breakthrough Rights Advocate, Lucknow

           
           

          Image Source: jimflix!
          «
          »

          3 Responses to [Poetry] Nahi Banna Hai Mujhe by Deepika Gupta

          Leave a Comment

          Name*

          Email* (never published)

          Website